Gautam Adani बैंक की कर्ज को सुकाने की तैयारी, शेयरहोल्डर के लिए राहत

मुस्किल दौर से जुज रही Adani Group की सभी कंपनीयाँ को बचाने के लिए Gautam Adani ने एक बड़ी प्लान बनाते हुवे देखने को मिल रही है, जिसमे अदानी ग्रुप समय से पहले ही बैंक की कर्ज को सुकाते हुवे नजर आ सकता हैं।

Gautam Adani बैंक की कर्ज को सुकाने की तैयारी, शेयरहोल्डर के लिए राहत

बता दे की अदानी ग्रुप अब जल्द ही बैंक से लिए हुवे कर्ज को सुकाने की पूरी तैयारी में है। अदानी के प्रवक्ता ने कहा की “हम बैंको के साथ संपर्क में है और उनके लोन के एक हिस्से को समय से पहले ही ख़त्म करने की योजना बनाई जा रही हैं।” 

hindenburg की रिपोर्ट के बाद देखा जाए तो अदानी ग्रुप की सभी कंपनीयों में काफी गिरावट देखने को मिली है और लोगों का भरोसा भी इन शेयरों से ऊपर से काफी कम होते देखने को मिली है। Adani Group की मैनेजमेंट इन्वेस्टर की भरोसा को जितने के लिए कंपनी ने इसी वजह से बैंक की कर्ज को सुकाने का फैसला करते हुवे देखने को मिला हैं।

Join Our Telegram Groupयहाँ पर क्लिक करें

निवेशक के साथ साथ जो बैंक अदानी ग्रुप को लोन देते हुवे नजर आया है सभी अदानी ग्रुप की हलचल से काफी डरे हुवे है, ऐसे में अदानी ग्रुप की तरफ से आए इस खबर ने इन्वेस्टर के साथ बैंको के लिए भी काफी राहत की बात हो सकती हैं।

hindenburg की रिपोर्ट से जो भी मार्किट में प्रभाव देखने को मिला रहा है, अदानी ग्रुप अब इसी नेगेटिव अनुभूति को बदलने की पूरी प्रयास करता हुआ देखने को मिल रहा है जिसके लिए लगातर मैनेजमेंट अपने बिज़नस में नए नए रणनीति के तहत काम करता हुआ देखने को मिल रहा हैं।

Disclaimer:- Market in India पर बताए गए कोई भी न्यूज़ या फिर कोई भी टारगेट को हम सही होने का बिल्कुल भी दावा नहीं करते। हम सेबी रजिस्टर सलाहकार नहीं है, केवल अनुभव और अनुमानों के आधार ही इस वेबसाइट पर ज्यादातर टारगेट दिए जाते है, इसलिए कोई नुकशान याँ फिर प्रॉफिट के लिए हम बिल्कुल भी जिन्मेदारी नहीं लेते। अगर आप किसी शेयर पर निवेश करना चाहते हो एकबार खुद अच्छी तरह से एनालिसिस करें याँ फिर अपने वित्तीय सलाहकार की सलाह लेना बिल्कुल भी ना भूले उसके बाद ही कोई निवेश का फैसला लेने के लिए सोचना चाहिए।

अन्य पढ़े:-

Join Our Telegram Groupयहाँ पर क्लिक करें
5/5 - (1 vote)

Similar Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *